2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav गद्य Chapter 1 सुजान भगत

  • by

Students can Download 2nd PUC Hindi सुजान भगत Questions and Answers Pdf, Summary, Notes, 2nd PUC Hindi Textbook Answers, helps you to revise the complete Karnataka State Board Syllabus and to clear all their doubts, score well in final exams.

Karnataka 2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav गद्य Chapter 1 सुजान भगत

सुजान भगत Questions and Answers, Notes, Summary

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav gadya Chapter 1 सुजान भगत

I. एक शब्द या वाक्यांश या वाक्य में उत्तर दीजिए।

प्रश्न 1.
सीधे-सादे किसान धन आते ही किस ओर झुकते है?
उत्तर:
सीधे-सादे किसान धन आते ही धर्म और कीर्ति की ओर झुकते है।

प्रश्न 2.
कानूनगो इलाके में आते तो किसके चौपाल में ठहरते?
उत्तर:
कानूनगो इलाके में आते तो सुजान के चौपाल में ठहरते।

प्रश्न 3.
सुजान ने गांव में क्या बनवाया?
उत्तर:
सुजान ने गाँव में एक पक्का कुआँ बनवाया।

प्रश्न 4.
सुजान की पत्नी का नाम क्या है?
उत्तर:
सुजान की पत्नी का नाम बुलाकी है।

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav gadya Chapter 1 सुजान भगत

प्रश्न 5.
सुजान के बड़े बेटे का नाम क्या है?
उत्तर:
सुजान के बड़े बेटे का नाम है भोला है।

प्रश्न 6.
सुजान के छोटे बेटे का नाम क्या है?
उत्तर:
सुजान के छोटे बेटे का नाम शंकर है।

प्रश्न 7.
कौन द्वारा पर आकर चिल्लाने लगा?
उत्तर:
एक भिखमंगा द्वार पर आकर चिल्लाने लगा।

प्रश्न 8.
बुढापे में आदमी की क्या मारी जाती है?
उत्तर:
बुढापे में आदमी की बुद्धि मारी जाती है।

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav gadya Chapter 1 सुजान भगत

प्रश्न 9.
घर में किसका राज होता है?
उत्तर:
घर में जो कमाता है उसीका राज होता है।

प्रश्न 10.
कटिया का ढेर देखकर कौन दंग रह गयी?
उत्तर:
कटिया का ढेर देखकर बुलाकी दंग रह गयी।

प्रश्न 11.
सुजान की गोद में सिर रखे किन्हे अकथनीय सुख मिल रहा था?
उत्तर:
सुजान की गोद में सिर रखे बैलों को अकथनीय सुख मिल रहा था।

प्रश्न 12.
शिक्षक के गाँव का नाम लिखिए।
उत्तर:
शिक्षक के गाँव का नाम था अमोला।

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav gadya Chapter 1 सुजान भगत

II. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर: दीजिए।

प्रश्न 1.
सुजान महतो की संपत्ति बढी तो क्या करने लगा?
उत्तर:
सुजान महतो की संपत्ति बढी तो उनके चित्त की वृत्ति धर्म की ओर झुक पडी। साधु-संतों का आदर सत्कार होने लगा, द्वार पर धूनी जलने लगी। कानूनगो इलाके में आते तो सुजान की चौपाल में ठहरते। हल्के के हेड कांस्टेबल, थानेदार, शिक्षा विभाग के अफसर यहाँ तक कि बड़े-बड़े हाकिम भी उसके चौपाल में आकर ठहरने लगे। घर में भजन-भाव होता, सत्संग होता सुजानने गाँव में एक पक्का कुआ बनवा दिया इसनहर जो काम गाँव के किसी ने न किया था सुजानने कर दिखाया।

प्रश्न 2.
घर में सुजान-भगत का अनादर कैसे हुआ?
उत्तर:
जब से सुजान महतो, सुजान भगत बन गया तो उसके हाथों से धीरे-धीरे अधिकार छीने जाने लगे।

किस खेत में क्या बोना है, किसको क्या देना है, किसकों क्या लेना है, किस, भाव क्या चीज बिकीं, ऐसी-ऐसी महत्वपूर्ण बातों में भी भगत जी की सलाह न ली जाती। भगत के पास कोई जा नही पाता। उसके दोनो लडके और पत्नी ही हर मामला तय करती। गाँव भर में सुजान का मान-सम्मान बढता था, लेकिन अपने ही घर में घटता जाता।

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav gadya Chapter 1 सुजान भगत

प्रश्न 3.
सुजान भगत पेड के नीचे बैठकर क्या जोचता है?
उत्तर:
धीरे-धीरे उसके हाथ से सारे अधिकार छीने जाने लगे तब सुजान ने पेड का नीचे बैठकर सोचा उसेक ही घर में उसका अनादर। अभी वह अपाहिज नहीं है हाथ-पाँव थके नही है, घर का कुछ न कुछ काम वह करता ही रहता है फिर भी यह अनादार? उसीने वह घर बनाया था, सारी विभूति उसी के श्रम का फल है पर अब उस पर उसका कोई अधिकार नही। अब वह दरवाजे पर कुत्ते जैसा है, पड़ा रहता है, घरवाले जो रुखा-सूखा दे, वहीं खाकर पेट भर लिया करे। ऐसे जीवन को वह धिक्कारता है। ऐसे घर में वह रह नही सकता।

प्रश्न 4.
सुजान भगत को सबसे अधिक क्रोध बुलाकी पर क्यों आता है?
उत्तर:
सुजान को सबसे अधिक क्रोध अपनी पत्नी बुलाकी पर आया। क्योंकि वह भी लड़कों का साथ देती थी। लड़कों को मालूम नही कितने परिश्रम से उसने गृहस्थी जोडी है लेकिन उसे तो मालूम है। सुजान ने दिन-को दिन और रात को रात नही समझा। इतनी कड़ी मेहनत की। भादो की अँधेरी रात में मडैया लगा के जुआर की रखवाली करता था। जठे-बैसाख की दोपहरी में भी दम न लेता था। अब उसी घर में उसे इतना भी अधिकार नही कि वह भीख तक दे सके। सुजान ने कभी न उसे मारा, ना पैसे की कमी की। बीमारी में उसे वैद्य के पास ले जाता। अब उसे अपने बेटे ही सब कुछ लगते है।

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav gadya Chapter 1 सुजान भगत

प्रश्न 5.
चैत के महीने में खालिहानों में सत युग के राज का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
चैत के महीने में जगह-जगह अनाज के ढेर लगते है। वही समय होता है जब किसानों की भी थोडी देर के लिए अपना जीवन सफल मालूम होता हैं। अच्छी फसल बढी देखकर, कटाई कर जब वे अनाज के ढेर को लगा देते है, तब गर्व से उनका हृदय उछलने लगता है। सुजान भी टोकरे में अनाज भर-भरकर देते और उनके दोनों लड़के वह घर में रख आते। भाट और भिक्षुक तब भीख
माँगने आते। तब खलीहानों में सचमुच सतयुग का राज़ होता है।

प्रश्न 6.
सचमुच भगत भिक्षुक को कैसे संतुष्ट करता है?
उत्तर:
एक बार निराश होकर लोटे भिक्षुक को सुजान कहते हैं उस अनाज के ढेर से जितना अनाज उठाकर ले जा सको जाओ। भिक्षुक ने पहले 10 सेर अनाज अपने चादर में भरा लेकिन सुजान, ने इसे तो कोई बच्चा भी उठालेगा कहकर उस चादर में खुद इतना अनाज भरा कि उससे वह गठरी हिली नही। तब सुजान ने पता कराया कि वह अमोला में रहता है फिर गठरी खुद अपने सिर पर उठाकर भिक्षुक को पीछे चला। इस तरह उसने भिक्षुक को संतुष्ठ किया।

प्रश्न 7.
सुजान भगत अपना खोया हुआ अधिकार फिर कैसे प्राप्त करता है?
उत्तर:
सुजान महतो जब सुजान भगत बना तो उसने कामकी सारी जिम्मेदारी अपने बेटो को सौंप दी।

बच्चे उसका बड़ा आदर करते थे लेकिन घर में अब सब उनका ही अधिकार चलता यथे जहाँ राज्य किया था वहाँ पराधीन बनकर रहना सुजान को अच्छा नही लगा सुजानने सोच लिया। उसमें वह लाग थी ताकद थी। वहा फिरसे खेत में काम करने लगा इतना श्रम जितना जीवन में उसने कभी न किया था। गाँव में हुई टीकाओं पर उसने ध्यान नही दिया। अबके उसके खेत सोना उगल दिया। जहाँ मुश्किल से पाँच मन होता था, उसी खेत में दस मन की उपज हुई। बेटे देखते रहे। इस तरह उसने फिर से ऐसे अपना अधिकार प्राप्त किया।

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav gadya Chapter 1 सुजान भगत

III. निम्न लिखित वाक्य किसने किससे कहा।

प्रश्न 1.
धरम के काम मे मीन-मेष निकालना अच्छा नहीं?
उत्तर:
इस वाक्य को सुजान ने बुलाकी से कहा।

प्रश्न 2.
दिन भर एक न एक खुचड़ निकालते रहते हैं।
उत्तर:
इस वाक्य को भोलाने बुलाकी से कहा।

प्रश्न 3.
आधी रोटी खाओ, भगवान का भजन करो और पडे रहो।
उत्तर:
इस वाक्य को बुलाकी ने सुजान से कहा।

प्रश्न 4.
क्रोधी तो सदा के हैं। अब किसी की सुनेंगे थोडे ही।
उत्तर:
बुलाकी ने यह वाक्य भोला से कहा।

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav gadya Chapter 1 सुजान भगत

प्रश्न 5.
बाबा, इतना बोझ से उठ न सकेगा।
उत्तर:
भिक्षुक ने सुजान भगत को कहा।

IV. ससंदर्भ स्पष्टीकरण कीजिए:

प्रश्न 1.
भगवान की इच्छा होगी, तो फिर रुपये हो जायेंगे। उनके यहाँ किस बात की कमी है?
उत्तर:
प्रसंग: इस वाक्य को सुजान भगत पाठ से लिया गया है, जिसके लेखक है- प्रेमचंद

व्याख्या -इस वाक्य को सुजान ने अपनी पत्नी बुलाकी से कहा है। एक दिन जब गया के यात्री उसकी यहाँ ठहरे तो सुजान ने कहा कि उसकी भी बहुत दिनों से इच्छा थी कि गया जाए। बुलाकी ने अगले साल देखेंगे, हाथ खाली हो जाएगा कहा तो सुजान ने अगले साल का क्या भरोसा, धर्म के काम को टालना नही चाहिए कहते हुए ऊपर की बात कही।

प्रश्न 2.
अभी ऐसे बुढे नही हो गए कि कोई काम ही न कर सके
उत्तर:
इस वाक्य को भोला ने अपने माँ बुलाकी को कहा। दरवाजे पर जब एक भिखमंगा खडा चिल्ला रहा था। बुलाकी काम में व्यस्त थी वह कहती है कि भगत बन ऐसे ही बिना काम करते पड़े रहना था तो वह सुजान को गुरुमंत्र न लेने देती। भोला भी ऊपर दिया वाक्य कहता है कि सारा दिन पूजा-पाठ में उडता है, भगत हुए तो दीन-दुनिया दोनों को छोड़ दिया।

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav gadya Chapter 1 सुजान भगत

प्रश्न 3.
आदमी को चाहिए कि जैसे समय देखे वैसा काम करे प्रसंग:
उत्तर:
व्याख्या – ऊपर के वाक्य को बुलाकीने अपने पति सुजान से कहा है। सुजान जब भीखमंगेको सेर भर जौ दिया तो भोला ने उन्हे बहुत बुरा-भला कहा जिससे सुजान बहुत क्रोधित हुए। बुलाकी सुजान को खानेको बुलाने गयी सुजान ने मना किया। तब बुलाकी अपने बेटे की बात का क्या बुरा मानना कहकर दुनिया के दस्तूर की बात करती हुई कहती है जो कमाता है घर में उसीका राज होता है, आदमी को चाहिए कि जैसा समय देखे वैसा काम करे समझाया।

प्रश्न 4.
अब तक जिस घर में राज्य किया, उसी घर में पराधीन बनकर नहीं रह सकता।
उत्तर:
प्रसंग : इस वाक्य को ‘सुजान भगत’ पाठ से लिया गया है। लेखक है प्रेमचंद।

व्याख्या : सुजान के भगत बनते ही उसके हाथोंसे धीरे-धीरे अधिकार छीने जाने लगे। किस खेत में क्या बोना है, किसे को क्या देना है, किसके क्या लेना है किस भाव क्या चिज बिकी, ऐसी महत्वपूर्ण बातों में भी भगत की सलाह न ली जाती। दोनो लडके और बुलाकी ही सब निर्णय लेते। जिस दिन भीख देनेकी बात को लेकर बेटेने और बुलाकी ने कुछ कह दिया तब सुजान ने ऊपर कही बात सोच ली।

प्रश्न 5.
बाबा, इतना मुझ से उठ न सकेगा।
उत्तर:
भिक्षुक ने सुजान भगत को कहा।

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav gadya Chapter 1 सुजान भगत

V. वाक्य शुद्ध कीजिए:

1. सुजान एक पक्का कुँआ बनवाया।
उत्तर:
सुजानने एक पक्का कुँआ बनवाया।

प्रश्न 2.
प्रातःकाल स्त्री पुरुष गया चला गया।
उत्तर:
प्रातःकाल स्त्री और पुरुष ‘गया चले गये।

प्रश्न 3.
मुझसे कल बहुत बड़ा भूल हुआ।
उत्तर:
मुझसे कल बहुत बड़ी भूल हुई।

प्रश्न 4.
उसके हाथ कांप रही थी।
उत्तर:
उसके हाथ काँप रहे थे।

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav gadya Chapter 1 सुजान भगत

प्रश्न 5.
सब यही कहेंगे कि भिक्षुक कितनी लोभी है।
उत्तर:
सब यही कहेंगे कि भिक्षुक कितना लोभी है।

VI. कोष्ठक में दिए गए कारक चिन्हों से रिक्त स्थान की पूर्ति कीजिए। (ने, से, की, का ,को)

  1. चैत का महीना था।
  2. जो खर्च करता है, उसी को देता है।
  3. अब इन व्यापारों से धृणा होती थी।
  4. भिक्षुक ने भोला की ओर संदिग्ध नेत्रों से देखा।
  5. तुम्हारे बेटों की तो कमाई है।

VII. निम्नलिखित वाक्यों को सूचनानुसार बदलिए।

1. सुजान के खेत में कंचन बरसता है। (भविष्यत काल में बदलिए)
सुजान के खेत में कंचन बरसता था।

2. सुजान के मन में तीर्थ यात्रा करने की इच्छा थी। (वर्तमान काल में बदलिए)
सुजान के मन में तीर्थ यात्रा करने की इच्छा है।

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav gadya Chapter 1 सुजान भगत

3. शंकर गाड़ी में नारियल भर कर लाता है। (भूतकाल में बदलिए)
शंकर गाड़ी में नारियल भर कर लाता था।

VIII. अन्य लिंग रूप लिखिए।

1. भिखारी – भिखारिन आदमी-औरत, पिता-माता पुजारी-पुजारिन विद्वान-विदुषी, भगवान – भगवती, – स्त्री-पुरुष, साधु-सधुआइन

IX. अन्यं वचन रूप लिखिए।

1. घर-घर, बात-बाते, अभिलाषा – अभिलाषाएँ, लाडका-लडके, रोटी-रोटियाँ, भिक्षुक-भिक्षुकगण, – महीना-महीनो, टीका-टीकाएँ

X. विलोम शब्द लिखिए:

  • मुरझाना x खिलना
  • जीवन x मरण
  • सुंदर x कुरुप,
  • सुख x दुःख
  • आशा x निराशा
  • मुश्किल X आसान

सुजान भगत Summary In English

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav gadya Chapter 1 सुजान भगत

This is one of ‘Premchand’s great stories. The story of Sujan Mahto, a farmer, who worked really hard, day and night and earned a lot of money, property and fame. Once he had achieved everything, his mind slowly drifted away from all this worldly matter. He started doing charity – ‘Dan Dharm’. He started feeding hundreds of people. Travellers, great saints and noteworthy people started visiting his house. There was no end to his kindness and generosity. Within no time, people started calling him Sujan Bhagat. He too started living a saintly life. He started getting up early and spending time in pooja. He stopped lying and helping others was the main thing for him.

Those who were jealous of Sujan thought that he must have found some hidden wealth for his prosperity. Slowly, Sujan detached himself from all worldly things. His sons, Bhola and Shankar took over the control of everything. Bhola started deciding about how to run the family. All the major decisions were taken by him. Sujan became just a mute spectator.

Once when Şujan was giving alms to a person, he was stopped by his wife Bulaki and son Bhola. Sujan did not like this, as he felt he was losing his hold on everything. He had become useless. At first he was angry with his wife Blake, who had sided her son and spoke against Sujan. She knew how hard Sujan had worked, had sacrificed so much to come up to this stage, and now when he had no say, no power in this house, she did not come to his support.

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav gadya Chapter 1 सुजान भगत

Sujan pondered the whole night, decided on some plan of action and the next day early in the morning, went to the fields with plough in hand. Once again he started working hard that surprised everyone. Bhola and Shankar being young wanted to enjoy life and they couldn’t work like Sujan. Slowly, Sujan earned back the same respect and value in his house. He donated what he felt was right. Once again no poor man would go from his house empty-handed. He started ordering around his sons, who had nothing to say but to obey him.

Sujan was right when he realised that he was not too old to work. He understood, that it was the way of life. The moment you stop working and stop earning, you lose your power and value and thus self-respect too. His entire life he had lived in hardship to provide riches to his family, and even at this age he had to prove this to his family once again.

सुजान भगत Summary In Kannada

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav gadya Chapter 1 सुजान भगत

सुजान भगत Summary In Kannada 1

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav gadya Chapter 1 सुजान भगत

सुजान भगत Summary In Kannada 2

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav gadya Chapter 1 सुजान भगत

सुजान भगत Summary In Kannada 3

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav gadya Chapter 1 सुजान भगत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *