2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav गद्य Chapter 4 एक कहानी यह भी

  • by

Students can Download 2nd PUC Hindi एक कहानी यह भी Questions and Answers Pdf, Summary, Notes, 2nd PUC Hindi Textbook Answers, helps you to revise the complete Karnataka State Board Syllabus and to clear all their doubts, score well in final exams.

Karnataka 2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav गद्य Chapter 4 एक कहानी यह भी

एक कहानी यह भी Questions and Answers, Notes, Summary

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav गद्य Chapter 4 एक कहानी यह भी

I. एक शब्द या वाक्यांश या वाक्य में उत्तर लिखिए।

प्रश्न 1.
मन्नू भंडारी का जन्म किस गाँव में हुआ?
उत्तर:
मन्नु भंडारी का जन्म मध्य प्रदेश के भानपुरा में हुआ।

प्रश्न 2.
अजमेर से पहले मन्नू के पिता कहाँ थे?
उत्तर:
अजमेर से पहले मन्नू के पिता इंदौर में थे।

प्रश्न 3.
लेखिका की बड़ी बहन का नाम लिखिए।
उत्तर:
लेखिका की बड़ी बहन का नाम सुशीला है।

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav गद्य Chapter 4 एक कहानी यह भी

प्रश्न 4.
पाँच भाई-बहनों में सबसे छोटी कौन है?
उत्तर:
पाँच भाई-बहनों में सबसे छोटी मन्नू है।

प्रश्न 5.
महानगर के फ्लैट में रहनेवाले लोग क्या भूल गए हैं?
उत्तर:
महानगर के फ्लैट में रहनेवाले लोग पड़ोस कल्चर भूल गए है।

प्रश्न 6.
पिताजी का आग्रह क्या था?
उत्तर:
पिताजी का आग्रह था कि मन्नू रसोई से दूर रहे।

प्रश्न 7.
पिताजी रसोई घर को क्या कहते थे?
उत्तर:
पिताजी रसोईघर को भटियारखाना कहते थे।

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav गद्य Chapter 4 एक कहानी यह भी

प्रश्न 8.
मन्नू भंडारी को प्रभावित करने वाली हिन्दी प्राध्यापिका का नाम लिखिए।
उत्तर:
मन्नू भंडारी को प्रभावित करनेवाली हिन्दी प्राध्यापिका थी शीला अग्रवाल।

प्रश्न 9.
कॉलेज से किसका पत्र आया?
उत्तर:
कॉलेज से प्रिन्सिपल का पत्र आया।

प्रश्न 10.
पिताजी के अंतरंग मित्र का नाम बताइए।
उत्तर:
पिताजी के अंतरंग मित्र का नाम था डॉ. अंबालाल।

प्रश्न 11.
शताब्दी की सबसे बड़ी उपलब्धि क्या है?
उत्तर:
15 अगस्त 1947, भारत की आज़ादी।

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav गद्य Chapter 4 एक कहानी यह भी

प्रश्न 12.
‘एक कहानी यह भी’ की लेखिका कौन हैं?
उत्तर:
‘एक कहानी यह भी’ की लेखिका है मन्नू भंडारी।

II. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर लिखिए।

प्रश्न 1.
मन्नू भंडारी के बचपन के बारे में लिखिए।
उत्तर:
मन्नू जन्मी थी भानपुरा गाँव में लेकिन उसका बचपन गुज़रा अजमेर के ब्रह्मपुरी मोहल्ले के दो मंजिला मकान में। पिता बहुत ही पढ़े-लिखे, इज्जतदार आदमी थे। माँ पढ़ी-लिखी नहीं थी। पाँच भाई बहनों में वह सबसे छोटी थी, बहुत ही दुबली और मरियल सी, काली सी। उससे दो साल बड़ी बहन सुशीला की मन्नु के साथ हमेशा तुलना की जाती क्योंकि सुशीला गोरी थी और गोरापन उसके पिताजी की कमजोरी थी। तभी से मन्नु के मन में हीन भावना की ग्रंथी को जन्म लिया था। आगे चलकर उसने मान, सम्मान और प्रतिष्ठा सब कुछ पाई लेकिन जिन्दगी में कभी हीन भावना से नहीं उबरी। अन्याय को चुपचाप सहनेवाली, बिना पढ़ी-लिखी माँ कभी उसका आदर्श नहीं बन सकती।

प्रश्न 2.
पिताजी के प्रति लेखिका के क्या विचार थे?
उत्तर:
अजमेर से पहले मन्नु के पिता इंदौर में थे जहाँ पर उनका बहुत मान-सम्मान, प्रतिष्ठा थी। आर्थिक झटके के कारण वे इंदौर से अजमेर आए। काँग्रेस के साथ-साथ वे समाज सुधार कामों से भी जुड़े हुए थे। शिक्षा को वे केवल उपदेश नहीं देते थे बल्कि आठ-आठ दस-दस विद्यार्थीयों को अपने घर में रखकर पढ़ाया करते थे। वे बहुत दरियादिल थे। एक ओर वे बेहद कोमल और संवेदनशील व्यक्ति थे तो दूसरी ओर बेहद क्रोधी और अहंवादी। उन्होंने अपने बल-बूते पर अंग्रेजी हिन्दी विषयवार शब्दकोश तैयार किया। अपनों के विश्वासघात, आर्थिक विवशता, नवाबी आदतें, अधूरी महत्वाकांक्षा के कारण आखिरी दिन में वे बहुत शक्की बन गए थे। रसोई को वे भटियारखाना कहते थे और वे नहीं चाहते थे कि मन्नू रसोई में जाएँ। उनके घर में आए दिन विभिन्न राजनैतिक पार्टियों के जमावड़े होते थे और जमकर बहसें होती थी।

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav गद्य Chapter 4 एक कहानी यह भी

प्रश्न 3.
लेखिका बचपन में कौन-कौन से खेल खेलती थीं?
उत्तर:
पाँच भाई-बहनों में सबसे छोटी मन्नू अपने से दो साल बड़ी बहन सुशीला के साथ घर के बड़े आँगन में सतोलिया, लँगडी-टाँग, पकडम-पकडाई काली-टीलो खेलती तो कमरों में गुड्डे-गुड़ियों के ब्याह रचाती पास-पड़ोस के सहेलियों के साथ। भाइयों के साथ कभी गिल्ली-डंडा खेलती। पतंग उड़ाने काँच पीसकर माँजा सूतना आदि भी करती थी। पूरे मोहल्ले भर में यह खेल खेलती रहती थी।

प्रश्न 4.
‘पड़ोस-कल्चर’ के बारे में लेखिका क्या कहती है?
उत्तर:
अपने घर के अंदर और घर के बाहर खेले जानेवाले खेलों के बारे में मन्नू कहती है कि उस जमाने में घर की दीवारें घर तक ही समाप्त नहीं हो जाती थी बल्कि पूरे मोहल्ले तक फैली रहती थी। इसलिए मोहल्ले के किसी भी घर में जाने पर कोई पाबंदी नहीं थी, बल्कि कुछ घर तो परिवार का हिस्सा ही थे। आजकल ऐसे नहीं है ज़िंदगी खुद जीने के इस आधुनिक दबाव ने शहरों के फ्लैट में रहनेवालों को यह ‘पड़ोस कल्चर’ नहीं समझ में आता। घर के चार दिवारों में रहनेवाले लोगों ने इस पड़ोस कल्चर को कितना संकुचित, असहाय और असुरक्षित बना दिया है कि पड़ोस में रहके भी हमें उनके बारे में कुछ भी पता नहीं रहता, नाही उनको हमारे बारे में।

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav गद्य Chapter 4 एक कहानी यह भी

प्रश्न 5.
शीला अग्रवाल का लेखिका पर क्या प्रभाव पड़ा।
उत्तर:
दसवीं कक्षा तक मन्नू बिना लेखक के बारे में जाने कोई भी किताब पढ़ती। 45 में दसवी पास कर ‘सावित्री’ गर्ल्स हाय स्कूल में फस्ट इयर करने आई तो हिन्दी की प्राध्यापिका शीला अग्रवाल से परिचय हुआ। उनके कारण मन्नू ने साहित्य जगत में प्रवेश किया। किताबों का चुनाव करके पढ़ना, पढ़ी हुई किताबों पर बहस करना। उसने सिखाया। चुन-चुन कर किताबें पढ़ने को दी। मन्नू ने तब बहुत लेखकों की – प्रेमचन्द, अज्ञेय, यशपाल, जैनेंद्र आदि की किताबें पढ़ी। इस तरह शीला अग्रवाल ने साहित्य का दायरा ही नहीं बढ़ाया बल्कि घर की चारदीवारी के बीच बैठकर
देश की स्थितियों को जानने और उसे भी उन स्थितियों के भागीदार बनना सिखाया।

प्रश्न 6.
पिताजी ने रसोई को ‘भटियारखाना’ क्यों कहा है?
उत्तर:
बहनों की शादी हुई और भाई पढ़ाई के लिए बाहर चले गए तब मन्नू की ओर पिताजी का ध्यान गया।. लड़कियों को स्कूल की शिक्षा के साथ-साथ अच्छी गृहिणी, अच्छा खाना पकाना सिखाया जाता था लेकिन पिताजी का आग्रह था कि मन्नू रसोई से दूर रहे। रसोई को वे भटियारखाना कहते थे और उनके हिसाब से वहाँ रहना अपनी क्षमता और प्रतिभा को भट्टी में झोंकना था।

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav गद्य Chapter 4 एक कहानी यह भी

प्रश्न 7.
एक दकियानूसी मित्र ने मन्नू भंडारी के पिता से क्या कहा?
उत्तर:
आज़ाद हिंद फ़ौज के मुकदमे के सिलसिले में जब जगह हड़ताल का आह्वान था। छात्रों का एक बहत बड़ा समूह भी चौराहे पर इकट्ठा होकर भाषणबाजी कर रहे थे तब पिताजी के एक निहायत. दकियानूसी मित्र ने उन्हें जाकर कहा कि – मन्नू की मत मारी गई है? लड़कियों को आज़ादी दी, इसका मतलब यह नहीं कि वह उल्टे-सीधे लड़कों के हड़ताल करवाती, हुडदंग मचाती फिरे? उनके जैसे घरों की लड़कियाँ को यह शोभा देता है क्या? कोई मान-मर्यादा, इज्जत-आबरू का खयाल भी है।

प्रश्न 8.
मन्नू भंडारी की माँ का परिचय दीजिए।
उत्तर:
मन्नू की माँ उनके पिता के ठीक विपरीत थी। वह पढ़ी-लिखी नहीं थी। धरती से ज्यादा धैर्य और सहनशक्ति उसमें थी। पिताजी की हर ज्यादती को वह सह लेती और बच्चों की हर जिद हर फरमाइश सहज भाव से स्वीकार करती। सबकी इच्छा और पिताजी की आज्ञा को पालन करने के लिए सदैव तैयार रहती। सारे बच्चों का लगाव माँ के साथ था। लेकिन चुपचाप असहाय मजबूरी में रहना, उनका त्याग वगैरा सब मन्नू के लिए कभी आदर्श नहीं रहा।

IV. ससंदर्भ स्पष्टीकरण कीजिए।

प्रश्न 1.
‘एक ओर वे बेहद कोमल और संवेदनशील व्यक्ति थे तो दूसरी ओर बेहद क्रोधी और अहंवादी।
उत्तर:
प्रसंग: इस वाक्य को मन्नू भंडारी के लिखे ‘एक कहानी यह भी’ से लिया गया है।

व्याख्या: अजमेर से पहले मन्नु के पिता इंदौर में थे जहाँ पर उनका बहुत मान-सम्मान, प्रतिष्ठा थी। आर्थिक झटके के कारण वे इंदौर से अजमेर आए। काँग्रेस के साथ-साथ वे समाज सुधार कामों से भी जुड़े हुए थे। शिक्षा को वे केवल उपदेश नहीं देते थे बल्कि आठ-आठ दस-दस विद्यार्थीयों को अपने घर में रखकर पढ़ाया करते थे। वे बहुत दरियादिल थे। एक ओर वे बेहद कोमल और संवेदनशील व्यक्ति थे तो दूसरी ओर बेहद क्रोधी और अहंवादी। उन्होंने अपने बल-बूते पर अंग्रेजी-हिन्दी विषयवार शब्दकोश तैयार किया। अपनों के विश्वासघात, आर्थिक विवशता, नवाबी आदतें, अधूरी महत्वाकांक्षा के कारण आखिरी दिन में वे बहुत शक्की बन गए थे। रसोई को वे भटियारखाना कहते थे और वे नहीं चाहते थे कि मन्नू रसोई में जाएँ। उनके घर में आए दिन विभिन्न राजनैतिक पार्टियों के जमावड़े होते थे और जमकर बहसें होती थी।

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav गद्य Chapter 4 एक कहानी यह भी

प्रश्न 2.
‘पिता के ठीक विपरीत थीं हमारी बेपढ़ी-लिखी माँ।’
उत्तर:
प्रसंग: इस वाक्य को मन्नू भंडारी के लिखे ‘एक कहानी यह भी’ से लिया गया है।

व्याख्या: मन्नू की माँ उनके पिता के ठीक विपरीत थी। वह पढ़ी-लिखी नहीं थी। धरती से ज्यादा धैर्य और सहनशक्ति थी उसमें। पिताजी की हर ज्यादती को वह सह लेती और बच्चों की हर जिद हर फरमाइश सहज भाव से स्वीकार करती। सबकी इच्छा और पिताजी की आज्ञा को पालन करने के लिए सदैव तैयार रहती। सारे बच्चों का लगाव माँ के साथ था। लेकिन चुपचाप असहाय मजबूरी में रहना, उनका त्याग वगैरा सब मन्नू के लिए कभी आदर्श नहीं रहा।

प्रश्न 3.
‘यह लड़की मुझे कहीं मुँह दिखाने लायक नहीं रखेगी।
उत्तर:
प्रसंग: इस वाक्य को मन्नू भंडारी के लिखे ‘एक कहानी यह भी’ से लिया गया है।

व्याख्या: वह समय ही वैसा था कि मन्नू हाथ उठा-उठाकर नारे लगाती, हडतालें करवाती, लड़कों के साथ शहर में घूमती तो एक दिन कॉलेज के प्रिंसिपल का पिताजी को पत्र आया। कि वह जाकर उन्हें मिले और उन्हें बताए कि उसके गतिविधियों के कारण उसके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई क्यों न किया जाय? पिताजी ने तब गुस्से में ऊपर का वाक्य कहा। चार बच्चे पहले पढ़ चुके लेकिन किसी ने यह दिन नहीं दिखाया था।

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav गद्य Chapter 4 एक कहानी यह भी

प्रश्न 4.
‘वे बोलते जा रहे थे और पिताजी के चेहरे का संतोष धीरे-धीरे गर्व में बदलता जा रहा था।
उत्तर:
प्रसंग: इस वाक्य को मन्नू भंडारी के लिखे ‘एक कहानी यह भी’ से लिया गया है।

व्याख्या: एक दिन शाम को जब कॉलेज के विद्यार्थी चौराहे पर भाषणबाजी कर रहे थे तब अजमेर के सबसे प्रतिष्ठित और सम्मानित डॉ. अंबालाल ने वह सुनकर मन्नू के पिताजी के पास आकर उसकी तारीफ करने लगे कि क्या तुम घर में बैठे हो – यू रिअली मिस्ड समथिंग। उन्होंने मन्नू के पिताजी को बधाई दी तब पिताजी का संतोष गर्व में बदलता जा रहा था।

प्रश्न 5.
‘क्या पिताजी को इस बात का बिलकुल भी अहसास नहीं था कि इन दोनों का रास्ता ही टकराहट का है?’
उत्तर:
प्रसंग: इस वाक्य को मन्नू भंडारी के लिखे ‘एक कहानी यह भी’ से लिया गया है।

व्याख्या: मन्नू अपने पिताजी के स्वभाव के बारे में बताते हुए कह रही है कि उनकी सबसे बड़ी दुर्बलता थी यश की कामना और उनका मानना था कि व्यक्ति को कुछ विशिष्ट बनकर जीना चाहिए। लेकिन मन्नू को अपने अनुशासन के दायरे से निकलकर निषेध करना विरोध करना उनको बर्दाश्त नहीं हो रहा था। कुछ खास बनना और सामाजिक छवि भी संभालना दोनों का ही रास्ता टकराहट का होता है। इसका शायद उन्हें अहसास नहीं था

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav गद्य Chapter 4 एक कहानी यह भी

V. निम्नलिखित वाक्यों को सूचनानुसार बदलिए।

प्रश्न 1.
एक बहुत बड़े आर्थिक झटके के कारण वे इंदौर से अजमेर आ गए थे। (वर्तमान काल में बदलिए)
उत्तर:
एक बहुत बड़े आर्थिक झटके के कारण वे इंदौर से अजमेर आ गए।

प्रश्न 2.
वे जिंदगी भर अपने लिए कुछ माँगते नहीं हैं। (भूतकाल में बदलिए)
उत्तर:
उन्होंने ज़िन्दगी भर अपने लिए कुछ माँगा न था।

प्रश्न 3.
उनका भाषण सुनते ही बधाई देता हूँ। (भविष्यत्काल में बदलिए)
उत्तर:
उनका भाषण सुनते ही बधाई देंगे।

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav गद्य Chapter 4 एक कहानी यह भी

VI. विलोम शब्द लिखिए:

  • पाप x पुण्य
  • सुरक्षित x असुरक्षित
  • नैतिक x अनैतिक
  • सक्रिय x निष्क्रिय
  • सही x गलत
  • व्यवस्थित x अव्यवस्थित
  • सम्भव x असम्भव

VII. निम्नलिखित शब्दों के साथ उपसर्ग जोड़कर नए शब्दों का निर्माण कीजिए।

  • प्रतिष्ठित – अप्रतिष्ठित
  • हद – बेहद
  • यश – अपयश
  • क्रिया – प्रक्रिया

एक कहानी यह भी Summary in English

This is a part of a Biography of Mannu Bhandari, a great Hindi author. She tells about her childhood, her father, mother and the five siblings. She was the youngest of all. Because of some financial problems, her father shifted from Indore to Ajmer. Her father was very kind-hearted and sentimental, but extremely short-tempered. He always lived like a king, dictating things. Her mother was a simple house wife. She was not educated and she gave her life in serving her husband and children. She was always scared of her husband. Her mother’s sacrifice for the family never impressed Mannu.

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav गद्य Chapter 4 एक कहानी यह भी

Her father was a very strict disciplinarian and he liked only fair coloured daughters. But Mannu was of a dark complexion and being the youngest, he never bothered about her when she was growing up. Her sister Susheela was elder to her by two years and they always played together with their neighborhood kids. When her sisters got married and went away and both her brothers left home for studies and job, her father started noticing Mannu.

Her father never liked to see Mannu in the kitchen; he called it as ‘Bhatiyarkhana’. “Why waste your talent and knowledge in ‘Bhatiyarkhana”? was what he used to say to Mannu. For this, she is not praising her father for not critisişing her. She just wants to analyse what qualities she had inherited from him.

Mannu was a headstrong and adamant girl like her father. She showed her grit when she got married to Rajendra Yadav (a great Hindi Author). That was the time when the freedom movement was going on in the country. Mannu used to take part actively in the movement, by giving speeches. She used to read a lot, but Sheela Agarwal, her Hindi Teacher, suggested her to read good, selected books. During that time she read a lot of Hindi Literature, discussed with her teacher which changed her entire life. She used to sit with her father when his friends used to discuss politics.

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav गद्य Chapter 4 एक कहानी यह भी

Her father always believed that a person should be successful in life. Mannu was actively participating in the freedom struggle and giving speeches, and some friends of her father commented about that to him in a derogatory manner. Whenever he heard such criticism, he used to think – this girl Mannu will bring bad name to our family. But when his friend Dr. Ambalal, praised Mannu after hearing her speech and told him that he had really missed something, he really felt proud of her.

Though she too was scared of her father, like the time when the Principal had written a letter to her father, it did not stop Mannu joining Jai Hind Fouj agitation. She was there when there was a big strike. In May 1947, Sheela Agarwal got the notice to leave the school, Mannu and some of her friends were rusticated from the College. But the biggest event was what happened on 15th August 1947, when India got her Independance. That was the red letter day for the country.

एक कहानी यह भी Summary in Kannada

एक कहानी यह भी Summary in Kannada 1

एक कहानी यह भी Summary in Kannada 2 एक कहानी यह भी Summary in Kannada 3

2nd PUC Hindi Textbook Answers Sahitya Gaurav गद्य Chapter 4 एक कहानी यह भी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *